Join us?

विशेष

Health tips : फर्टिलिटी इंप्रूव करने में मददगार साबित हो सकते हैं ये फूड आइटम्स

नई दिल्ली। इनफर्टिलिटी की प्रॉब्लम आज के समय में बहुत ही कॉमन हो चुकी है। जिससे आज ज्यादातर कपल्स जूझ रहे हैं। अनहेल्दी लाइफस्टाइल, खानपान और फिजिकल एक्टिविटी की कमी इसके लिए काफी हद तक जिम्मेदार हैं। अगर आपने इन चीज़ों में सुधार कर लिया, तो इनफर्टिलिटी से निपटना इतना मुश्किल नहीं। आज हम आपके कुछ ऐसे सुपरफूड्स के बारे में बताएंगे, जो फर्टिलिटी बढ़ाने में मददगार होते हैं। अगर आप बेबी प्लान कर रहे हैं, तो इन चीज़ों को खासतौर से अपनी डाइट में शामिल करें।
फर्टिलिटी बढ़ाने वाले फूड आइटम्स
घी
आयुर्वेद के अनुसार गाय का घी खाना इनफर्टिलिटी की समस्या से जूझ रहे कपल्स के लिए बेहद फायदेमंद हो सकता है। इससे प्रजनन क्षमता बढ़ती है, जिससे कंसीव करने में आ रही दिक्कतें दूर हो सकती हैं।
खजूर
खजूर कई जरूरी पोषक तत्वों का खजाना होता है। आयरन की कमी दूर करने के साथ ही खजूर इनफर्टिलिटी की समस्या भी दूर करता है। खजूर शरीर को एनर्जेटिक बनाता है, खून की कमी दूर करता है। रोजाना थोड़ी मात्रा में इसे खाने से पुरुषों में इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की प्रॉब्लम भी दूर होती है।
लौंग
लौंग सिर्फ खाने का स्वाद ही नहीं बढ़ाता, बल्कि ये फर्टिलिटी क्षमता को भी बढा़ने में कारगर है। आयुर्वेद में तो फर्टिलिटी से जुड़ी समस्याओं से निपटने के लिए खासतौर से लौंग का सेवन करने की सलाह दी जाती है। बेबी प्लान करने वाले कपल्स को लौंग भी अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए।
जायफल
जायफल एक मजबूत जड़ी-बूटी है, जो खाद्य पदार्थों में मसाले के तौर पर इस्तेमाल की जाती है। जिससे खाने की खुशबू और स्वाद में इजाफा होता है। प्रजनन क्षमता बढ़ाने के लिए जायफल का इस्तेमाल पुरुषों और महिलाओं दोनों के ही फायदेमंद होता है। इससे स्पर्म क्वॉलिटी और क्वांटिटी दोनों में सुधार होता है और कंसीव करने में आ रही परेशानियां दूर होती हैं।
इलायची
इलायची के छोटे-छोटे दानों में कई जरूरी विटामिन्स जैसे राइबोफ्लेविन और नियासिन के साथ ही एंटीऑक्सिडेंट्स भी मौजूद होते हैं, जो आपको हेल्दी रखने के साथ ही इरेक्टाइल डिस्फंक्शन और इनफर्टिलिटी जैसी समस्याओं से निपटने में कारगर होते हैं। अगर आप बेबी प्लानिंग कर रहे हैं, तो इलायची को भी डाइट का हिस्सा बनाएं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button